Followers

Monday, 19 December 2016

-: अब तो फि़जांओं में :-

             -: अब तो फि़जांओं में :-

अब तो फ़‍िज़ओं में, वो मस्तीयॉ कहॉ ।
जहॉ देखो, बिरानी ही बिरानी छॉई है ॥
हुस्न के चहरे ब़ेंजान से हो गये ।
हर जव़ा दिलों पर उदासी, सी छॉई है ।
कॉफूर हो चला, खुशीयों का आलम ।
हर ज़ज़बादों में, बिमारी सी छॉई है ।।
        मैंख़ानों में रोज, मेले लगते ।
     इब़ाद्दगाहों में, खांमोंशी सी छॉई हैं ।।
       
 अब तो फ़‍िज़ओं में, वो मस्तीयॉ कहॉ ।
        जहॉ देखो, बिरानी ही बिरानी छॉई है ॥
मदरसों में, अब ताल़ीम नही ,
हर ज़ज़बादों, हर जुबानों में ।
अब सियासी,  चालें छॉई है ॥
नफ़रत सी हो चली है दुनिया से ,
हर श़क्‍स के, चहरों पर खुदगजीं सी छॉई है ॥
बदलते वक्त ऐ आलम, का मिजाज तो देखों ।
इंसान की क्या,
कुदरत ने भी, रंग बदलने की कसम सी खाई है ॥
                          अब तों फि़जओं में, वो मस्तीयॉ कहॉ ।
                          जहॉ देखों बिरानी ही बिरानी छॉई है ॥
                          बुर्जुगों से भी अब कायदा नही ।
                         जांम से जांम टकराने, की तहजीब आई है ॥
                         किसे कहते हों तुम इसान ,
                        यहॉ तो कपडों की तरह ,
                       बदलते रिस्तों की बॉढ सीं आई है ॥
                           हम अपनी ही पहचान भूल गये
                          गली कूचों से घरों तक,
                          अब नंगी तसवीरें छांई हैं ।
                          दूंसरों की तहजीब को गले लगाते
                          उन पर बरबादींयों, की शांमत आई है
अब तो फि़जओ मे, वो मस्तीयॉ कहॉ ।
जहॉ देखो, बिरानी ही बिरानी छॉई है ॥

                             कृष्ण सिंह चंदेल सागर
                              मो0 - 9926436304
                      krishnsinghchandel@gmail.com